BHARAT

जिसे मैंने भौगोलिक नक्शा समझा ,

जिसे मैंने लोगों से  भरा गुच्छा समझा ,

उसमें तो कर्तव्य का समुंदर निकला ,

वह तो मेरा भारत देश निकला ||

 

जिसे मैंने नेताओं का दंगल समझा ,

जिसे मैंने काला धन का गढ़ समझा ,

उसमें तो देश भक्ति का अद्भुत रस निकला ,

वह तो मेरा भारत देश निकला ||

 

जिसे  मैंने अनपढ़ समझा ,

जिसे मैं नारी सुरक्षा असमर्थ समझा ,

उसमें तो स्त्रीत्व का आदर निकला ,

वह तो मेरा भारत देश निकला ||

 

भारत केवल एक देश नहीं है ,

अपितु भावनाओं का उद्बोधन  है ,

देशभक्ति का प्रमाण है ,

भाई चारे का संबंध है ,

जिंदगी जीने का नजरिया है , 

 अपनों के साथ होने का भरोसा है ,

नारी का सम्मान है ,

शिक्षा का अभिमान है ,

हिमालय का बलिदान है ,

बच्चे का मां से प्यार है ,

जल ही जीवन का संदेश है , 

प्रकृति का वरदान है ,

जोश भरे युवाओं का मैदान है ,

वह तो मेरा भारत देश महान है ||

 

 

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s