EDUCATION SYSTEM 

In this modern world the essence of true education not exist .

Teacher are become employees and student are no longer learner they are only stakeholders.

धर्म गुरु भूल गया है , पैसो के जाल में फस गया है।।

मत पूछो विडंबना केसी है शिष्य भी खरीदार बन गया है।।

कितना भी बड़ा ज्ञानी बन जा वो रस नहीं पाएंगे ,

जीवन में ज्ञानी बन जायेगा पर शिस्टाचार कहा से लाये गा।।

फिर से एक अलख जगा दो 

शिक्षक अपना महत्व समज लो।

शिष्य राह भटक गए है , सदमार्ग दिखा दो।।।।

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s